We use cookies to improve your experience. By continuing to browse the site, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.    
Suraj Dada | Hindi Poem | Online Hindi Poem for Class 2 Kids - Easyshiksha

सूरज दादा

सूरज दादा, सूरज दादा,

क्यों इतना गरमाते हो

हमने तुम्हारा क्या बिगाड़ा,

क्यों इतना गुस्साते हों।



सोकर उठते जब खटिया से

तुमको शीश नवाते हैं

हँसी-खुशी सारा दिन बीते

ऐसा रोज मनाते हैं।



दिन भर तुम इतना तपते,

गरम तमाचे जड़ देते हो

पशु-पक्षी व जीव जगत भी,

व्याकुल सबको कर देते हो।



वर्षा का जब मौसम आता,

ओट बादलों की ले लेते हो

उमड़-घुमड़ जब वर्षा होती,

आसमान में खो जाते हो।



जाड़े में तुम बच्चे बन,

सबको प्यारे लगते हो

हम भी बैठ खुले आँगन में,

तुमसे बाते करते हैं।



शाम ढले तुम चल देते हो

हम कमरों में छिप जाते हैं

ओढ़ रजाई ऊपर से हम

दुबक बिस्तरों में जाते हैं।

Experience the Speed: Now Available on Mobile!

Download EasyShiksha Mobile Apps from Android Play Store, Apple App Store, Amazon App Store, and Jio STB.

Curious to learn more about EasyShiksha's services or need assistance?

Our team is always here to collaborate and address all your doubts.